Loot Ki Kahani in Hindi || Paigambar Loot ki Poori Story in Hindi

 Loot Ki Kahani in Hindi || Paigambar Loot ki Poori Story in Hindi




अस्सलाम वालेकुम दोस्तों बात करेंगे पैगंबर लूट अलैहिस्सलाम की जाए कि आप सभी अच्छे होंगे आज हम एक नए पैगंबर के बारे में जानेंगे और वह पैगंबर इब्राहिम अलैहिस्सलाम के भतीजे थे क्या तुम नाम बता सकते हो वैसे भी आपने पढ़ तो लिया ही होगा उनका नाम लूट है आशा है कि आप इस कहानी को पढ़कर हिदायत पाएंगे और अपने बच्चों को भी इसी कहानी के बारे में बताएंगे और अपने बच्चों को इस कहानी को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करेंगे बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम तो बिना किसी देरी के चली शुरू करते हैं पैगंबर लूट की कहानी !

 

क्या आपको याद है हमने पैगंबर इब्राहिम की कहानी में आपको लूट के बारे में बताया था और यह बताया था कि उस समय जब पैगंबर और उनकी बीवी और साथ ही इनका भतीजा पैगंबर लूट सफर पे थे तो समुद्र के पास पहुंच जाने पर पैगंबर लूट ने फैसला किया कि वह यही रुकेंगे और यहां के लोगों को हिदायत देंगे और अल्लाह की राह की तरफ बुलाएंगे इसी कारण से पैगंबर लूट उसी इलाके में रुक गए !

 

पैगंबर लूट सदोम शहर की तरफ चले गए थे जोकि समुद्र के पूर्वी क्षेत्र में स्थित था सदोम में रहने वाले लोग अत्याचारी दिमाग के थे वह लोग बहुत मतलबी और अत्याचारी थे वह लोग वहां से निकलने वाले सभी यात्रियों पर हमला कर देते थे और उनका सारा सामान लूट लेते थे इसलिए यात्री सदोम जाने से डरते थे इस जगह के लोग कई प्रकार के अपराध किया करते थे इसके अलावा सदोम के लोग मूर्तिपूजक भी थे ! पैगंबर लूट ने जब इस तरह का अपराध देखा तो वह काफी उदास हो गए !

 

फिर पैगंबर लूट ने हार नहीं मानी और अपना काम करना शुरू कर दिया और लोगों को बताना शुरू कर दिया कि आप सब अपनी जिम्मेदारी से अलग हो रहे हैं और कहा कि आप यह जो अपराध कर रहे हैं यह करना बिल्कुल गलत है पर लोगों ने उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया क्योंकि वहां के लोग गलत काम कई पीढ़ियों से कर रहे थे पीर पैगंबर ने उन्हें अल्लाह के दंड के बारे में बताया फिर भी उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया बल्कि वह पैगंबर को धमकाने लगे और कहने लगे अगर तुमने हमें समझाना बंद नहीं किया तो हम तुम्हें अपने शहर से बाहर निकाल देंगे उनके जीवन गुजारने के इस तरीके को देखकर पैगंबर बहुत निराश हुए !

 

सदोम अपराध करने वाले क्षेत्र के नाम से जाने जाने लगा पूरे अरब में लोग सदोम शहर को जानते थे लेकिन पैगंबर बिना हार माने अपना काम करते रहे किसी को भी पैगंबर की चिंता नहीं थी जब भी पैगंबर अल्लाह का संदेश सुनाना चाहते वह वहां से भाग खड़े होते यहां तक कि उनके अपने घर के लोग भी उनकी नहीं सुनते थे ! कुछ समय बाद लोगों ने पैगंबर से बहस करना शुरू कर दीया वह यह सब पैगंबर को उकसाने के लिए करते थे वह लोग कहते थे कि अगर अल्लाह है तो तुम उनसे बोलो वह हमें दंड देकर दिखाएं और हम अपनी आदतें नहीं बदलेंगे समझे जब पैगंबर ने यह सुना तो वह काफी उदास हो गए समय बीता चला गया लेकिन पैगंबर एक भी इंसान को मुसलमान नहीं बना पाए अल्लाह पाक ने फरिश्ते भेजने का फैसला किया क्योंकि अल्लाह पाक सदोम के लोगों को दंड देना चाहते थे

 

जब फरिश्ते सदोम शहर पहुंचे तो दोपहर हो चुकी थी तभी पैगंबर लूट की बेटी नदी से पानी भर रही थी जब उनकी बेटी ने फरिश्तों के चेहरे देखे तो वह काफी आश्चर्य में पड़ गई क्योंकि वह बहुत खूबसूरत थे और इतनी सुंदर लोग उसने कभी नहीं देखे थे फरिश्ते उसके पास गए और शहर में रहने के लिए किसी जगह के बारे में पूछने लगे फिर उनकी बेटी ने कहा आप कहीं मत जाइए आप यहीं पर रहिए मैं अपने पिता को आपके पास लाती हूं वही आपको इस बारे में बताएंगे फिर वह दौड़ी-दौड़ी अपने पिता के पास पहुंची वह इतनी जल्दी में थी कि वह अपना पानी का घड़ा तो वही भूल आई थी फिर बेटी ने अपने पिता से कहा कि उसने तीन बहुत सुंदर इंसान को देखा है और इतने सुंदर इंसान उसने कभी नहीं देखे पैगंबर जाते थे कि अगर सदोम के लोगों ने उन्हें देख लिया तो वह परेशानी में आ जाएंगे इसलिए वह दौड़ते हुए वहां पहुंचे पैगंबर ने जब उन्हें देखा तो वह भी नहीं जान पाए कि वह वही फरिश्ते हैं फिर पैगंबर कहने लगे आप कौन हैं कहां से आए है लेकिन फरिश्तों ने कोई जवाब नहीं दिया बल्कि उन्होंने पूछा कि हम शहर में कहां रुक सकते हैं पैगंबर उलझन में पड़ गए क्योंकि वह इस शहर में हो रहे अपराधों के बारे में उन्हें बताना चाहते थे इसके अलावा वह उन 3 अजनबी यों को अपने घर बुलाकर उनकी मेहमान नवाजी भी करना चाहते थे उन्होंने उन्हें कई बार समझाने की कोशिश की लेकिन वह लोग इस बात पर ही अड़े रहे कि वह इसी शहर में ही रहेंगे !

 

पैगंबर वहां से चले गए और इस बात का वादा दिया कि वह रात होते ही उनके पास पहुंचेंगे पैगंबर अंधेरा होने पर फिर उनके पास आए क्योंकि वह उनको अपने घर ले जाना चाहते थे वह नहीं चाहते थे कि इस बात का पता किसी और शहर वाले को लगे इसलिए उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि अंधेरा होने तक उन सब को वही उनके घर में रुकना होगा और अंत में वह अपने घर में पहुंच गए !

 

पैगंबर की पत्नी कमरे में आई और उनको देख कर हैरान हो गए क्योंकि वह लोग बहुत खूबसूरत है क्योंकि उन्होंने अभी तक इतने सुंदर चेहरे कभी नहीं देखे थे हम आपको पहले से ही बता देते हैं कि पैगंबर की पत्नी एक अच्छी महिला नहीं थी पैगंबर की बीवी ने सोचा की मैं इस बारे में अपने जानने वालों से बता देती हो और वह बिना किसी को कुछ कहे जब घर से निकल गई और लोगों को इस बारे में बताया कि उनके घर मैं मेहमान आए हैं जो दिखने में बहुत खूबसूरत है फ्री यह बात तो जंगल में आग की तरह फैल गई और हर कोई पैगंबर लूट के घर की और चल पड़ा पैगंबर ने जब इतने सारे लोगों को अपने घर आते हुए देखा तो वह जान गए कि यह लोग अजनबीयों के कारण ही मेरे घर आए हैं लेकिन उन्हें समझ में नहीं आया कि लोगों को इस बात का पता कैसे चला फिर उन्हें पता चला कि उनकी पत्नी घर पर नहीं है फिर मैं समझ गई क्योंकि पत्नी ने ही इन सब की सूचना दी है फिर वह इस बात पर निराश हो गए कि उनकी पत्नी ने ही उन्हें धोखा दिया है पैगंबर लूट ने अंदर से दरवाजा बंद कर दिया ताकि लोग अंदर ना आए लेकिन लोगों ने दरवाजे को ठोकना शुरू कर दिया पैगंबर ने लोगों से विनती की कि वह उन्हें अकेला छोड़ दे फिर उन्होंने लोगों को अल्लाह के दंड के बारे में भी बताया लेकिन सदोम अत्याचारी लोग खुलकर हंसने लगे और लोगों ने जल्द ही दरवाजे को तोड़ दिया पैगंबर ने अपने मेहमानों को बचाने के लिए पूरी कोशिश की लेकिन वह भीड़ को नहीं रोक पाए फिर पैगंबर लूट ने अल्लाह से दुआ की कि वे उन्हें इतनी ताकत दे कि वह अपने मेहमान को उन लोगों से बचा पाए !

 

फरिश्तो ने जब पैगंबर लूट को उदास देखा तो उन्हें लगा कि यही सही समय है कि वह बता दे कि वह फरिश्ते हैं फिर फरिश्तों ने कहा चिंता मत करो पैगंबर लूट क्योंकि हम फरिश्ते हैं और अल्लाह ने हमें भेजा है जब भीड़ को इस बारे में पता चला तो वह लोग समझ गए कि हम मुश्किल में पड़ सकते हैं यह सब सुनकर वह लोग वहां से बहुत तेज भाग खड़े हुए फिर फरिश्तों ने पैगंबर लूट को बताया की सुबह तक उन्हें यह शहर छोड़कर जाना होगा और उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें अपनी बेटी को साथ ले जाना होगा लेकिन पत्नी को नहीं क्योंकि उसने धोखा दिया है पैगंबर ने सुबह होते ही अपने दोनों बेटियों के साथ शहर छोड़ दिया !

 

सुबह होते ही अल्लाह पाक ने सदोम शहर को दंड देने की शुरुआत की सबसे पहले सदोम शहर  मैं भूकंप आना शुरू हो गया फिर पूरी की पूरी धरती बहुत तेजी से कांपने लगी फिर तेज हवा के साथ पत्थरों की ऊपर से बारिश की तरह बरसात होने लगी फिर वहां के सभी लोग मारे गए और पैगंबर की पत्नी भी नहीं बची पूरी दुनिया के नक्शे से सदोम शहर मिट गया था वहां पर कोई भी इंसान जिंदा नहीं था सिवाय पैगंबर और उनकी बेटियों के पैगंबर लूट पैगंबर इब्राहिम के पास गए और सारी कहानी बताइए लेकिन पैगंबर इब्राहिम को यह बात पहले से पता थी क्योंकि जब फरिश्ते पैगंबर के घर आए थे तो उन्होंने यह सब पैगंबर इब्राहिम को बता दिया था पैगंबर लूट लोगों को अल्लाह का संदेश देते रहे !

 

 

 

 

 

 

 

Post a comment

0 Comments